राजस्थान : राजस्थान सरकार के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बीजेपी पर विधायकों के खरीद-फरोख्त का आरोप लगाते हुए बड़ा निशाना साधा है. गहलोत का आरोप है कि भाजपा राजस्थान के कांग्रेस सरकार को अस्थिर करना चाहती है.

उन्होंने कहा, “मैं चाहता हूं कि पूरा देश जाने की बीजेपी अब अपनी सारी सीमाएं पार कर रही है. वह मेरी सरकार को गिराने की कोशिश कर रही है.” गहलोत ने कहा, “हम विधायकों को पाला बदलने के लिए ऑफर देने की बात सुन रहे हैं. कुछ लोगों को 10 से 15 करोड़ रुपये तक देने का वादा किया गया है और कुछ को अन्य प्रलोभन (Favours) देने की बात कही गई है. यह लगातार हो रहा है. 

गहलोत ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए यह भी कहा कि इन्होंने पिछले महीने राज्यसभा चुनाव में जीतने के लिए “गुजरात में सात विधायकों को खरीदा”. राजस्थान में भी ऐसा ही करने की कोशिश क गई लेकिन हमने उन्हें रोक दिया और ऐसा सबक सीखाया कि वो लंबे समय तक याद रखेंगे.

आपको बता दे की बीजेपी पर पहले भी विधायको को खरीदने और सरकार के पलटने का आरोप लगता आया है, हाल ही में मध्य प्रदेश और कर्नाटक सरकार को इसी तरीके से गिराया गया था.

समाचार एजेंसी ANI के मुताबिक मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा, ‘हमें कोरोना वायरस से लड़ने पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए और हम वही कर रहे हैं लेकिन वो (भाजपा) सरकार को अस्थिर करने की कोशिश में हैं। ऐसा वाजपेयी जी के समय पर नहीं था.

गहलोत के आरोप पूरी तरह से आधारहीन हैं: सतीश पूनिया

गहलोत के आरोप पर राजस्थान भाजपा अध्यक्ष सतीश पूनिया ने कहा, ‘राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत एक चालाक राजनीतिज्ञ हैं, वे अपनी सरकार की विफलता के लिए भाजपा को दोष देने का प्रयास कर रहे हैं। उनके आरोप पूरी तरह से आधारहीन हैं। उनके पास संख्याबल है, उनकी सरकार को अस्थिर करने की कोशिश कौन करेगा।’

बीजेपी के दो नेता गिरफ्तार

राजस्थान पुलिस ने इस मामले में दो बीजेपी नेताओं को देर रात हिरासत में लिया था. पूछताछ के बाद राजस्थान स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (SOG) ने इन्हें गिरफ्तार कर लिया है. रिपोर्ट के मुताबिक, राजस्थान में विधायकों की खरीद फरोख्त मामले में ब्यावर के दो भाजपा नेताओं का नाम सामने आया है. इन नेताओं के नाम हैं भरत मालानी और अशोक सिंह. इन्हें ब्यावर उदयपुर से स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप ने गिरफ्तार किया है. राजस्थान SOG के मुताबिक मालानी की कॉल रिकॉर्डिंग से पता चला है कि विधायकों को खरीदने की कोशिश जा रही है.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *